(All Shayari Collection)

ज़हर को दूध समझ कर कैसे पिया जाये
दिल हो अगर ज़ख़्मी तो उसे कैसे सिया जाये
जब खुद पर ही यकीन नहीं रहा मुझे
तो तुझ पर यकीन अब कैसे किया जाये
ज़िन्दगी है मेरी बदहाल न जाने कब से
बदहाल हुई ज़िदंगी को अब कैसे जिया जाये
 
 
Zehar ko dudh samajh kar kaise piya jaye
Dil ho agar zakhmi to usko kaise siya jaye
Jab khud par hi yakeen nahi raha mujhe
Toh tujh par yakeen ab kaise kiya jaaye
Zindagi hai meri badhaal na jane kabse
Badhaal hui zindagi ko ab kaise jiya jaye