(All Shayari Collection)


घनघौर मोसम रात अंधेरी
जाग रहा सीमा का पहरी