(All Shayari Collection)

बहुत कुछ सीखा जाती है ज़िंदगी,
हंसा के रुला जाती है ज़िंदगी..
जी सको जितना उतना जी लो दोस्तों,
क्यूकी बहुत कुछ बाकी रहता है,
और ख़तम हो जाती है ज़िंदगी.


तारों मे अकेला चाँद जगमगाता है,
मुस्किलों मे अकेला इंसान ही डगमगाता है,
काँटों से मत घबराना मेरे दोस्त,
क्यूकी काँटों मे ही एक गुलाब मुस्कुराता है..


shayari

छू ले आसमान ज़मीन की तलाश ना कर,
जी ले ज़िंदगी खुशी की तलाश ना कर,
तकदीर बदल जाएगी खुद ही मेरे दोस्त,
मुस्कुराना सीख ले वजह की तलाश ना कर.


चेहरे की हँसी से हर गम छुपाओ,
बहुत कुछ बोलो पर कुछ ना बताओ,
खुद ना रूठो कभी पर सबको मनाओ,
राज़ है ये ज़िंदगी का बस जीते चले जाओ..


ज़िन्दगी वो जो गुज़र जाये,
आंसू वो जो बह जाये,
ख़ुशी वो जो मिल जाये,
ग़म वो जो बीत जाये,
मगर दोस्त वो जो हमेशा साथ निभाऐ |


shayari

चिकनी चुपड़ी बातों से, फितरत का पता नहीं चलता
अंदर क्या है बाहर क्या है, इसका पता नहीं चलता
जो मीठेपन का लेप चढ़ा कर प्यारी बातें करते हैं,
वो कटुता का कब रंग दिखादें, इसका पता नहीं चलता

शांती स्वरूप मिश्र


shayari

कभी कभी जीवन में ऐसे पल भी आते है.
कुछ हसीन ख्वाब आँखों में आकर एक नया दर्द दे जाते है.
मन के कोरे कागज पर वो अरमानों की तस्वीर सजाते है.
मन खुशियों से भरकर आँखों में आंसू दे जाते है.
कभी कभी जीवन में………………….
दिल के सूने आँगन में आशाओं के फूल खिलाते है.
बंद पड़े साजों को वो गीत नया दे जाते है.
कभी कभी जीवन में………………….
दिल की अँधेरी दुनिया में एक चिराग नया जलाते है.
प्यार की बारिश करके वो इन्द्रधनुष सा रंग दे जाते है.
कभी कभी जीवन में………………….


shayari

जो गुज़र गया वो क्यों सोचें, आगे की बात करो
वीरानों की बातें क्यों सोचें, गुलशन की बात करो
पतझड़ की बातों को छोड़ो, नव वसंत की बात करो
जीवन नहीं दुबारा मिलता, सबके हित की बात करो

शांती स्वरूप मिश्र


shayari

कर्म तेरे अच्छे हे तो
किस्मत तेरी दासी है!
नियत तेरी अच्छी है तो
घर तेरा मथुरा कशी है!


shayari

कागज़ पर रख कर खाना खाये तो भी कैसे….
खून से लथपथ आता है अखबार आजकल!