(All Shayari Collection)


दोस्ती ज़िन्दगी का खूबशूरत लम्हा है,
जिसे मिल जाये तन्हाई में भी खुश,
जिसे न मिले भीड़ में भी अकेला.




दोस्ती से कीमती कोई जागीर नही होती;
दोस्ती से खूबसूर्त कोई तस्वीर नही होती;
दोस्ती यूँ तो कचा धागा है मगर;
इस धागे से मजबूत कोई ज़ंजीर नही होती!




बिना पुकारे हमें साथ पाओगे
करो वादा कि दोस्ती आप निभाओगे
हम ये नही कहते कि हमें रोज याद करना
बस याद करना उस वक्त जब अकेले अकेले चॉकलेट खाओगे




चेहरे की हंसी से ग़म को भुला दो,
कम बोलो पर सब कुछ बता दो.
खुद ना रुठों पर सब को हँसा दो,
यही राज है ज़िंदगी का, कि जियो और जीना सिखा दो…..




दोस्त को दोस्त का इशारा याद रहेता हे
हर दोस्त को अपना दोस्ताना याद रहेता
हे कुछ पल सच्चे दोस्त के साथ तो
गुजारो वो अफ़साना मौत तक याद रहेता हे.




बादल चाँद को छुपा सकता है आकाश को नही…….
हम सबको भुला सकते है आप को नही…




याद तेरी आती है क्यो.यू तड़पाती है क्यो?
दूर हे जब जाना था.. फिर रूलाती है क्यो?
दर्द हुआ है ऐसे, जले पे नमक जैसे.
खुद को भी जानता नही, तुझे भूलाऊ कैसे?




टूटे ख्वाबों को जोड़ा नही जाता,
तुज़से रिश्ता अब भी तोड़ा नही जाता,
पाना तुमको मुमकिन हे नही,
पर यह दिल मेरी सुनता ही नही.




चाँद ने चांदनी को याद किया
रात ने सितारो को याद किया
हमारे पास न तो चाँद है न चांदनी
इसलिए हमने अपने चाँद से भी प्यारे दोस्त को याद किया ………….




इश्क़ ने हमे बेनाम कर दिया,
हर खुशी से हमे अंजान कर दिया,
हमने तो कभी नही चाहा की
हमे भी मोहब्बत हो,
लेकिन आप की एक नज़र ने हमे
नीलाम कर दिया…………..